in

इस्लामिक देशों में योग दिवस का हुआ विरोध, गुस्साई भीड़ ने स्टेडियम में घुसकर किया बवाल

21 जून को पूरा विश्व योग दिवस मना रहा है। विश्व के कई सारे देश योग दिवस को अपने यहां सार्वजनिक रूप से आयोजित कर रहे हैं। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा संयुक्त राष्ट्र संघ से योग दिवस को मान्यता प्राप्त करवाने के बाद कई सारी इस्लामिक कंट्रीज ने भी योग दिवस को अपनाया और अपने यहां भव्य दिव्य स्तर पर कार्यक्रम का आयोजन किया था। मालदीव में भी योग दिवस का भव्य दिव्य आयोजन किया गया था। लेकिन कुछ कट्टरपंथी भीड़ के द्वारा योग दिवस के इस भव्य दिव्य आयोजन का बहिष्कार किया गया और वहां पर हिंसक विरोध प्रदर्शन भी किया गया।

जानकारी के मुताबिक मंगलवार की सुबह योग दिवस का आयोजन मालदीव के मार्ले शहर के इंटरनेशनल फुटबॉल स्टेडियम में किया गया था। इस आयोजन में मालदीव के कई सारे लोग पहुंचे थे और बहुत ही शांति से योग दिवस का आनंद ले रहे थे। लेकिन तभी अचानक कट्टरपंथियों की भीड़ उस स्टेडियम में आ पहुंची और उन्होंने योग कर रहे उन योगियों को वहां से उठकर भागने के लिए धमकी दी। जब ऐसा नहीं किया गया तो गुस्साई भीड़ लोगों से हाथापाई करने लगी और हिंसक रूप से उस योग दिवस के कार्यक्रम को रोक दिया गया।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इंडियन कल्चरल सेंटर और मालदीव के खेल और युवा मंत्रालय के द्वारा संयुक्त रूप से मिलकर इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। इस कार्यक्रम के लिए भव्य दिव्य स्तर पर जनजागृति अभियान भी चलाए गए थे। जिसके बाद भारी संख्या में लोग योग दिवस के इस कार्यक्रम में सहभागी होने के लिए इंटरनेशनल फुटबॉल स्टेडियम में आए थे। लेकिन कट्टरपंथियों ने योग दिवस को भी धार्मिक चश्मे से देखा और इसमें खलल डालने के लिए आ पहुंचे। हालांकि विवाद को बढ़ता हुआ देख वहां पर तुरंत पुलिस भी आ गई।

पुलिस के आते ही मामला थोड़ा शांत हुआ। जिसके बाद पुलिस प्रशासन इस पूरे मामले की जड़ तक जाने की कोशिश करने लगा। फिलहाल इस बात की जांच की जा रही है कि यह हिंसक विवाद भड़काने के पीछे किन लोगों की साजिश है। भले ही हम अपने धार्मिक अनुष्ठानों का कितना भी सम्मान करते हैं लेकिन हमें योग जैसी चीजों को धार्मिक चश्मे से नहीं देखना चाहिए क्योंकि योग तो संपूर्ण मानव जाति के कल्याण के लिए लाया गया है। इसमें किसी भी जाति मत पंथ और संप्रदाय का भेद नहीं होना चाहिए क्योंकि लोग तो सभी को लाभ ही पहुंचाता है वह किसी की जात धर्म नहीं देखता।

Avatar

Written by Team Bharatiya News

Editorial Team, Bharatiya News

पाकिस्तान के इस कदम से खफा है सऊदी अरब के क्रॉउन प्रिंस

पुरानी ईवी बैटरी से बनेगी ई-रिक्शा, Nunam के साथ Audi साझेदारी