in

खजूर के पत्तों का मुकुट पहनकर शादी करने पहुंचा SDOP दूल्हा, पालकी में हुई दुल्हन की विदाई

दोस्तों आज के समय में हम देखते हैं कि लोगों के शौक भी बड़े हो गए हैं और लोग चकाचौंध भरी जिंदगी जीना काफी पसंद करने लगे हैं। ऐसे में अगर कोई बड़े अफसर के घर का कोई शादी समारोह है या फिर कोई छोटा-मोटा समारोह भी है तो उसे काफी बड़े स्तर पर किया जाता है और उसमें काफी ज्यादा पैसा खर्च किया जाता है। ज्यादातर ऐसा शादियों में देखा जाता है कि अगर कोई बड़े अफसर की शादी है तो शादी में बड़ा होटल और महंगा खाना समेत कई सारे शानो शौकत भरे इंतजाम किए जाते हैं। लेकिन जो खबर हम आपको दिखाने जा रहे हैं उस खबर को सुनकर आपको अपने कानों पर विश्वास नहीं होगा।

बुंदेलखंड में एक एसडीओपी ऑफिसर की शादी हुई लेकिन शादी इतने सादगी भरे अंदाज में हुई कि किसी को लगा ही नहीं कि इतने बड़े अफसर की शादी है। जी हां दोस्तों दूल्हे का लिबास पूरी तरह से पारंपारिक दिखाई दिया और दुल्हन भी पारंपरिक वेश में ही दिखाई दी। दूल्हे के सिर पर खजूर के पत्तों से बना हुआ पारंपारिक मुकुट सजाया गया था। इतना ही नहीं बल्कि दुल्हन की साड़ी भी सीधे पल्ले वाली चुनरी वाली थी। जब दूल्हा और दुल्हन सात फेरे लेने की तैयारी कर रहे थे उस समय सभी लोग दोनों को पारंपरिक लिबास में देखकर काफी हैरान थे। हालांकि सभी लोग उनके इस अंदाज की प्रशंसा ही कर रहे थे।

जानकारी के मुताबिक बुन्देलखण्ड के पन्ना जिले में जन्मे निवाड़ी जिले के पृथ्वीपुर के एसडीओपी पद पर तैनात संतोष पटेल मूल रूप से पन्ना जिले के अजय गढ़ में आने वाले देव गांव के रहने वाले हैं। संतोष पटेल की शादी चंदला के गहरावन गांव की रोशनी के साथ तय हुई थी। शादी तय होने के साथ ही यह भी निर्णय कर लिया गया था कि शादी पूरे पारंपारिक अंदाज में और सादगी भरे अंदाज में की जाएगी। इस निर्णय पर वर पक्ष और वधू पक्ष दोनों की तरफ से सहमति भी जताई गई थी। इसलिए जब दूल्हा अपने परिवार के साथ दुल्हन के घर पहुंचा तो पर्यावरण पूरक मोटर वाहन साइकिल पर सवार होकर पहुंचा। यह दृश्य सच में काफी ज्यादा सराहनीय था।

दोनों की शादी में ना तो बड़ा होटल किया गया था और ना ही मेहमानों के लिए बड़े-बड़े इंतजाम किए गए थे। खाना भी बहुत ही सादगी पूर्ण रखा गया था। खाने में बहुत सारे अलग-अलग व्यंजन नहीं रखे गए थे बल्कि जितने की आवश्यकता है उतने ही व्यंजन बनाए गए थे। जब दुल्हन की विदाई का समय आया तो दुल्हन की विदाई किसी बड़ी और महंगी कार में ना करते हुए पारंपरिक रूप से चली आ रही डोली में दुल्हन की विदाई कराई गई। इस शादी को देखने के बाद हर कोई एसडीओपी पद पर तैनात संतोष पटेल की सराहना करने लगा। क्योंकि इतने बड़े पद पर हो कर भी ऐसी सादगी आमतौर पर बहुत ही कम देखने को मिलती है।

Avatar

Written by Team Bharatiya News

Editorial Team, Bharatiya News

इस कंपनी में कर्मचारियों के लिए निकाली अनोखी स्कीम, कर्मचारियों की होगी बल्ले बल्ले

साड़ी पहनकर डांस करती दिखाई दी एक साथ कई महिलाएं, लोगों ने कहा यह है भारतीय संस्कृति